Prime Minister Narendra Modi, Ujjwala 2.0, Pradhan Mantri Ujjwala Yojana, PMUY, LPG connections, Uttar Pradesh, self-declaration, Under Ujjwala 1.0 | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 अगस्त को योजना का शुभारंभ करेंगे, 1 करोड़ गैस कनेक्शन बांटे जाएंगे

  • Hindi News
  • National
  • Prime Minister Narendra Modi, Ujjwala 2.0, Pradhan Mantri Ujjwala Yojana, PMUY, LPG Connections, Uttar Pradesh, Self declaration, Under Ujjwala 1.0

नई दिल्ली2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
उज्ज्वला योजना 2.0 में कई ऐसे प्रावधान जोड़े गए हैं, जो योजना के पहले स्वरूप में नहीं थे। -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar

उज्ज्वला योजना 2.0 में कई ऐसे प्रावधान जोड़े गए हैं, जो योजना के पहले स्वरूप में नहीं थे। -फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 अगस्त को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के दूसरे चरण (PMUY 2.0) का शुभारंभ करेंगे। इस दौरान वे वीडिया कांफ्रेंसिंग के जरिए उत्तर प्रदेश के महोबा जिले में लाभार्थियों को गैस करनेक्शन भी वितरित करेंगे। प्रधाननमंत्री उज्ज्वला योजना का लाभ लेने वालों से बात करेंगे। इसके बाद वे देश को संबोधित करेंगे। उज्ज्वला 2.0 में LPG कनेक्शन के अलावा पहले सिलेंडर की रीफिलिंग भी फ्री होगी। इसके अलावा गैस चूल्हा भी मुफ्त में दिया जाएगा। साथ ही योजना का लाभ लेने के लिए जरूरी पेपर वर्क को भी कम कर दिया गया है।

एड्रेस प्रूफ जमा करने की जरूरत नहीं
प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि उज्ज्वला 2.0 का लाभ लेने के लिए प्रवासियों को राशन कार्ड और एड्रेस प्रूफ जमा करने की जरूरत नहीं होगी। जरूरतमंद परिवार अब खुद के द्वारा सत्यापित आवेदन देकर भी इस योजना का लाभ ले सकेगा। इससे प्रधानमंत्री के विजन को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

जो पहले चरण में शामिल नहीं, उन्हें मिलेगा मौका
2021-22 वित्तीय वर्ष में इस योजना के तहत 1 करोड़ LPG कनेक्शन बांटने के लिए अलग से फंड जारी किया गया है। यह कनेक्शन कम आय वाले उन परिवारों को दिए जाएंगे, जो उज्ज्वला योजना के पहले चरण में शामिल नहीं हो सके थे।

2016 में हुई थी योजना की शुरुआत
उज्ज्वला योजना 1.0 का शुभारंभ 2016 में किया गया था। इसके तहत 5 करोड़ गरीब परिवार की महिलाओं को गैस कनेक्शन बांटने का लक्ष्य रखा गया था। इसके बाद 2018 में इस योजना को आगे बढ़ाते हुए सात और कैटेगरी की महिलाओं को इसका लाभ देना शुरू किया गया था। इसमें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अंत्योदय अन्न योजना, अति पिछड़ा वर्ग, चाय बगान वर्कर, वनवासी और द्वीपों में रहने वाले लोगों को भी शामिल कर लिया था।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *