Pakistan India Wagah Border; Imran Khan | Pakistan Imran Khan Govt Condition On Supply Wheat Medicines to Afghanistan | भारत ने कहा- अफगानिस्तान को गेंहू-दवाइयां जरूर भेजेंगे, इस मामले में पाकिस्तान की शर्तें नामंजूर

  • Hindi News
  • International
  • Pakistan India Wagah Border; Imran Khan | Pakistan Imran Khan Govt Condition On Supply Wheat Medicines To Afghanistan

नई दिल्ली/इस्लामाबाद37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भारत ने साफ कर दिया है कि अफगानिस्तान को 50 हजार टन गेहूं, दवाइयां और मेडिकल इक्युपमेंट्स जरूर भेजे जाएंगे और इस मामले में पाकिस्तान से बातचीत जारी है। विदेश मंत्रालय का यह बयान इसलिए अहम है क्योंकि ये राहत सामग्री वाघा बॉर्डर से पाकिस्तान होते हुए अफगानिस्तान भेजी जानी है और पाकिस्तान इसमें कई शर्तें थोप रहा है। पाकिस्तान कह रहा है कि वाघा बॉर्डर से यह माल पाकिस्तान के ट्रक लेकर जाएंगे। भारत इसके लिए तैयार नहीं है।

राहत के मामले में शर्तें नहीं रखी जातीं
गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा- हम 50 हजार टन गेहूं, दवाइयां और मेडिकल इक्युपमेंट्स अफगानिस्तान भेजना चाहते हैं। पाकिस्तान से इसके तरीके के बारे में बातचीत चल रही है। मैं फिर कहना चाहता हूं कि यह मानवीयता के आधार पर मदद है, इसलिए इस मामले किसी तरह की शर्तें नहीं लगाई जानी चाहिए। इस बारे में अगर कोई अपडेट होगा तो हम मीडिया को बताएंगे।

क्या है मामला
अमेरिका और UN की अपील पर 7 अक्टूबर को भारत ने 50 हजार टन गेहूं, दवाईयां और मेडिकल इक्विपमेंट्स भेजने का ऐलान किया। इसके लिए पाकिस्तान से मदद मांगी, क्योंकि ट्रकों के जरिए वाघा बॉर्डर से यह माल पहले पाकिस्तान और फिर अफगानिस्तान भेजा जा सकता है। इमरान खान सरकार, ISI और फौज को उम्मीद नहीं थी कि भारत इतने जल्दी अफगानिस्तान की मदद का फैसला लेगा। 7 अक्टूबर को भेजे गए भारतीय विदेश मंत्रालय के लेटर का जवाब पाकिस्तान ने 24 नवंबर को दिया। इसमें फिजूल सी कुछ शर्तें रख दीं। इनका खुलासा अब हो रहा है और इसके साथ ही पाकिस्तान का असली चेहरा भी दुनिया के सामने आ रहा है। इन्हें समझते हैं।

पाकिस्तान की चाल
पाकिस्तान की शर्त है कि भारत के ट्रक वाघा बॉर्डर पर माल उतारें। वहां से इन्हें पाकिस्तान के ट्रकों में लोड किया जाए। फिर ये ट्रक अफगानिस्तान पहुंचें। पाकिस्तान एक तीर से दो शिकार करना चाहता है। पहला- पाकिस्तानी ट्रक जब सहायता सामग्री लेकर जाएंगे तो बीच में इस पर हाथ साफ किया जा सकता है, यानी चोरी किया जा सकता है। इन्हें अपने गोदामों में ट्रांसफर कर सकता है। दूसरा- ट्रकों पर पाकिस्तान का झंडा होगा। मतलब अफगानिस्तान की जनता ये समझे कि उन्हें भूख से बचाने के लिए पाकिस्तान गेहूं और दवाईयां भेज रहा है।

भाड़ा भी चाहिए

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान चाहता है कि भारत से जो राहत सामग्री पाकिस्तान के रास्ते अफगानिस्तान भेजी जा रही है, उस पर माल भाड़ा और टोल टैक्स भारत सरकार अदा करे। ये इसलिए हास्यास्पद है, क्योंकि एक तरफ तो वो वाघा बॉर्डर से अपने ट्रकों में माल भेजने की मांग कर रहा है और दूसरी तरफ भाड़ा भारत से मांग रहा है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *